10 C
New York
Saturday, April 13, 2024

Castor seeds are useful from seeds to leaves – News18 हिंदी


सत्यम कुमार/भागलपुर: भारत में औषधिय प्रणाली से उपचार पौराणिक कालो से होती आ रही है. इसमें वैद्य के द्वारा कई तरह की पत्तियों से जड़ी बूटी बनाया जाता था और उससे उपचार संभव हो पता था. लेकिन यह प्रणाली धीरे-धीरे विलुप्त होती नजर आ रही है. पर अभी भी आसपास में कई ऐसे पौधे हैं, जिससे आप अपना उपचार स्वयं कर सकते हैं. इसमें से ही एक है अरंडी का पौधा. इसके बीज से निकलने वाले तेल से कई फायदे हैं. जो आपको रोग मुक्त कर सकता है. आइए आयुर्वेदाचार्य से जानते हैं इसके फायदे.आयुर्वेदाचार्य गणेश शर्मा ने बताया कि बिहार में अरंडी की खेती भी की जाती है. यह हर एक गली मोहल्ले में देखने को मिल जाएगा.

इसके बीज से लेकर पत्ती तक उपयोगी होते हैं. लेकिन इसे जंगली मानकर लोग इसके उपयोग को नहीं जानते हैं और नहीं करते हैं. आपको बता दें कि अरंडी के बीज का तेल निकालकर और उसे बाजार में अच्छे दामों पर बेचा जाता है. जिससे कई तरह के फायदे मिलते हैं. आयुर्वेदाचार्य गणेश शर्मा ने बताया कि अरंडी का तेल आंखों के लिए फायदेमंद होता है, खांसी में इसका काम आता है, गठिया रोग में काम आता है, किडनी की सूजन, साइटिका, पाइल्स, शरीर पर मसाज के लिए भी लोग इसका उपयोग करते हैं. इसका तेल बालों के लिए भी काफी फायदेदायक होते हैं.

पत्ती के भी हैं कई फायदे
आयुर्वेदाचार्य गणेश शर्मा ने बताया इसकी पत्ती पत्ती काफी उपयोगी होती है. जिन्हें दस्त की समस्या आ रही है. वह अगर अरंडी के पत्ते में नीम का पत्ता मिलाकर उसमें दो बूंद नींबू का रस डालकर पिए तो काफी फायदा मिलेगा. इतना ही नहीं पेट की कई तरह की समस्याओं को कम करने में यह मददगार साबित होता है.

Tags: Bhagalpur news, Health News, Local18

Disclaimer: इस खबर में दी गई दवा/औषधि और स्वास्थ्य से जुड़ी सलाह, एक्सपर्ट्स से की गई बातचीत के आधार पर है. यह सामान्य जानकारी है, व्यक्तिगत सलाह नहीं. इसलिए डॉक्टर्स से परामर्श के बाद ही कोई चीज उपयोग करें. Local-18 किसी भी उपयोग से होने वाले नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगा.



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

- Advertisement -